Self Dependent

alfaazmeredilse

Wheelchair Painting

By- Rishika Ghai

Self dependence:
Now a recognized attribute in 
Differently abled people 
As they have changed their perspective
In the eyes of people.

They don’t need sympathy
Neither help and support to live
Its unjust and unfair of people
To assume otherwise
They can do everything on their own.

But nowadays we ‘The Normal People’
Behave and act more like handicaps 
Searching for other people 
To get our work done or
By depending on machines.

Instead of teasing, making fun
Sympathizing with or pitying them  
We should endeavor
To learn from them
How to be independent on our own. 

God has created
Every person complete
In his or herself
All we need is faith in your willpower 
And we can achieve everything we want.

It’s best to remember…
It’s better to be a 
Self dependent person
With self respect intact
Than to be a burden on anyone.

–XxXxX–

©All…

View original post 8 more words

Happy Holi

alfaazmeredilse

images (1)
By- Rishika Ghai 
Holi is a day 
Full of vibrant colour  
And sweet memories 
People enjoy it to its fullest.

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google

View original post

शक: एक लाइलाज बिमारी

alfaazmeredilse

questions-and-doubts

शक;
वह बीमारी है 
जो लोगो के जीवन को 
खोखला करती है|

यह एक ऐसा बीज है 
जो किसी भी व्यक्ति की 
बुद्धि में आसानी से उत्पन्न होता है 
और बढ़ता ही जाता है|

ज्यादा तर मुसीबतों की 
जड़ यह शक ही है
यह न हो तो 
आधी मुसीबत यु ही हल हो जाये|

मनुष्य को जीवन में 
शक और शक्की लोगो से 
सावधान रहना चाहिए
और सथ ही इनका परहेज़ करना चाहिए|

शक का तो मकसद ही है 
बनी बनाई बात को बिगाड़ना
और जीवन को एक झटके में नष्ट कर देना 
इसलिए शक मत करो, क्योकि जख्म का इलाज तो है पर शक का नहीं| 

ऋषिका सृजन 

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google

View original post

मेरा स्वर्ग आपके चरणों में

alfaazmeredilse

16997752_1858507464438533_7481963455468606692_n

ईश्वर;
कौन है?
इससे लोगो का तात्पर्य
एक चमत्कारी शक्ति से है|

वास्तव में कहे तो
माता-पिता ही ईश्वर है
क्योकि वो ही है हमारे इस संसार में आने की वजह
वो नहीं तो कुछ नहीं|

पिता भगवान है तो
तो माता के चरणों में स्वर्ग दिखता है
अगर सच्ची आस्था रखो तो
ये दोनों हमारे जीवन के एक म्ह्त्वपूण स्तम्भ है|

इन स्तम्भ के बिना
जीवन की कल्पना असंभव है
ये ही तो जीवन में आगे बढने का ज़रिया है
इनके गिरने से जीवन के सभी सपने चूर चूर हो जाते है|

खुशनसीब है वो
जिनके जीवन में
माता-पिता का साया है
क्योकि कुछ लोग तो बस कल्पना ही करते है|

माता-पिता ही तो
सुख-दुःख में आपका साथ देते है|
ये ही तो जीवन के
हर कष्टों का निवारण करते है|

16806946_1858665331089413_3788286066838470188_n

ऋषिका सृजन

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google

View original post

जागरूक

alfaazmeredilse

16804300_1853248374964442_2900660695985491152_o

आज की दौर में लोग अफ्वाओं पर
आखँ मुंद कर विश्वास करते है उसे सच मानते हैं
वह ये भूल जाते है कि उन्हें
खुद उस घटने से अवगत होना चाहिए|

क्योकि दूसरो का कहा

हमेशा सच नहीं होता
कभी कभी लोग धोखे में डालने या नफरत
पैदा करने के लिए भी अफवा फैलाते है|

***
जब तक अपनी आखों से देख न लो

समझ न लो, परख न लो
तब तक उस घटना पर विश्वास मत करो 

और सच जाने बीना किसी निष्कर्ष पर मत पहुचो|

***

नही तो जीवन में अनर्थ हो सकता है
खुशियों का पलायन निश्चित है
इसलिए जीवन में घटित परिस्थितियों
से अवगत रहना ज़रूरी है|

ऋषिका सृजन 

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google

View original post

कैसी होती हैं ये बेटियाँ?

alfaazmeredilse

arun-jaitley-an13183

फूलों सी नाजुक होती हैं ये बेटियाँ
पुरे घर को अपनी खुशबू से महका देती हैं ये बेटियाँ
अपने जीने की इच्छाशक्ति को मार कर
दूसरो के लिए जीवन जीती चलती है ये बेटियाँ
अपने सुख दुःख की परवाह किये बिना
दूसरों को खुशी देने की कोशिश करती है ये बेटियाँ।

***

वक्त आने पर बेटा बन जाती है ये बेटियाँ
और पुरे परिवार का बोझ संभालती है ये बेटियाँ
चाहे कितनी भी कठिन परिस्तिथियाँ क्यों न हो
खुद से पहले परिवार का सोचती है ये बेटियाँ
चाहे तुम उसके सपने ही क्यों न कुचाल दो
बिना उफ करे हस्ते खेलते सब कुछ सह जायेंगी ये बेटियाँ

***

अपने गमो को कभी ब्या नहीं करेंगी ये बेटियाँ
जब भी बुलाओगे दोड़ी चली आएगी ये बेटियाँ
पुरे संसार को पीछे छोड़ कर
खुद की ख्वाहिशो को दिन में दबाये जीए जाएंगी ये बेटियाँ
बिना खुद की परवाह करे दूसरो की ख्वाहिशो
को पूरा करने…

View original post 87 more words

My Yellow WagonR

alfaazmeredilse

16299199_1845228882433058_4189729317571095818_n
By- Rishika Ghai
When I was in class one
We bought a new car
A yellow WagonR
Its been 13 years now
And we still have this car
So many memories attached to it
It gets me all nostalgic.
*** 
I remember the days that
How we use to travel
From Alwar to Delhi.
And moved our dogs
From one posting to another. 
 Its traveled a lot
In these past 13 years.
 ***
From to Alwar to Jammu,
To Nasirabad and Hyderabad, 
And Assam and then Allahabad
Now back to Alwar it shall go
The place where we bought it long time ago.
*** 
Learning driving at the age of 18
It’s me and my WagonR
Driving down to the driving school
And then returning back
There’s not a moment now
That I don’t miss my friend, my WagonR.
 ***
Now my dogs are old
And need more space to…

View original post 77 more words